Top Browser | list of top browser |

Browser का परिचय :-

इस लेख में हम टॉप ब्राउज़र (Top Browser) और उसमे मिलने वाली फैसिलिटी के बारेमे जानेगे | तो चलिए इसके बारेमे जानते हैं |

 

browsers
Top Browsers

ऊपर चित्र में दिखाए गए  ब्राउज़र के बारेमे आज हम जानेगे | जिसमे 

(1) गूगल क्रोम (Google Chrom)

(2) सफारी (Safari)

(3) ओपेरा मिनी (Operamini)

(4) इन्टरनेट एक्स्प्लोरर (Internet Explorer) 

(5) मोज़िला फायरफॉक्स (Mozila Firefox)

 

ऊपर दिखाई गए चारो ब्राउज़र बहुत ही ख्यातनाम (Famous) हैं  | जिसमे Internet Explorer सारे कम्प्यूटर के अंदर पहले से इनबिल्ट (Inbuilt) होता हैं | इन्टरनेट Browser की मदद से हम कोई भी वेबसाइट देख शकते हैं | Browser के अंदर हमें अनेक सुविधा मिलती हैं | विभिन्न ब्राउज़र के बावजूद कुछ सुविधाए सब ब्राउज़र में एक जैसी होती हैं | चलिए वह सुविधाए कोनसी  हे उसके बारेमे जानते हैं | 

Browser Types के बारेमे जानने के लिए यहाँ क्लिक करे |

Browser में मिलनेवाली सुविधाए :-

(A) बेक & फॉरवर्ड बटन (Back And Forward Button) :- इस बटन के प्रयोग से हम पहले वाले Webpage को देख शकते है और आशानी से navigate कर शकते हैं |

 

(B) रिफ्रेश / रीलोड और स्टॉप बटन (Refresh/ Reload And Stop Button) :- Refresh/ Reload बटन की मदद से हम किसी भी Webpage को Browser में दोबारा लोड कर शकते हैं और कई बार कोई webpage को लोड होने में वक़्त लगता हैं तो उसको हम Stop बटन के प्रयोग से रोक भी शकते हैं |

 

(C) जूमिंग (Zooming) :- इस विकल्प से हम ब्राउज़र के वर्ण (Digit) को छोटा या बड़ा कर शकते हैं |

 

(D) होम बटन (Home Button) :- ब्राउज़र में Blank Page या फिर हमारा कोई होम पेज को लोड करने हेतु इस बटन का प्रयोग किया जाता हैं |

 

(E) सर्च बार (Search Bar) :- इन्टरनेट पर सर्च इंजन के कोई भी जानकारी लेने हेतु सर्च बार का प्रयोग किया जाता है |

 

(F) एड्रेस बार (Address Bar) :- वेबसाइट को एड्रेस बार में टाइप करने पर वह वेबसाइट ब्राउज़र में लोन होने लगती हैं |

 

(G) स्टेटस बार (Status Bar) :- जब भी कोई वेबसाइट ब्राउज़र में लोड होती हे तो लोडिंग प्रोसेस का स्टेटस इस में दिखाई देता हैं |

 

(H) पिन्नेड वेबसाइट (Pinned Website) :- अगर हमें कोई वेबसाइट पसंद हो और उस website को हम pin करते हे तो वह website विंडोज 7 के टास्कबार में स्टोर हो जाती हे और हम उसे आशानी से शुरू कर शकते हैं |

 

(I) बुकमार्क्स (Bookmarks) :- हम अगर किसी वेब पेज को बुकमार्क करते हे तो ब्राउज़र उसे याद रखता हैं | और जब हमें उस webpage की जरुरत हो तब हम बुकमार्क में जेक उसे शुरू कर शकते हैं |

 

(J) हिस्ट्री (History) :- इन्टरनेट ब्राउज़िंग के दोरान हमने जिस भी webpage को सर्च किया होता वह इस में स्टोर होता हैं | पुरानी ब्राउज़िंग सेराचिंग हिस्ट्री इसमें चेक कर शकते हैं |

 

(K) इन प्राइवेट ब्राउज़िंग (In Private Browsing) :- जब भी हम computer पर इन्टरनेट सर्फिंग करते हे  तब कोछ डाटा ब्राउज़र में स्टोर हो जाता हैं | पब्लिक कम्प्यूटर के इस प्रकार का डाटा स्टोर हो वह ठीक नहीं हे ,ऐसी परिस्थिति में इस विकल्प का हम प्रयोग कर शकते हे,जिसकी मदद से ब्राउज़र में किसी भी प्रकार का डाटा या हिस्ट्री स्टोर नहीं होती |

 

(L) इन्टरनेट ऑप्शन (Internet Option) :- ब्राउज़र का configuration और सर्फिंग के दोरान का Behaviour के बारेमे पता कर शकते हे , ब्राउज़र के विभिन्न आयाम जैसे के सिक्यूरिटी,हिस्ट्री,कन्टेन्ट का कॉन्फ़िगरेशन किया जा शकता हैं |

 

Conclusion :-

मुझे उम्मीद हैं की आपको मेरा यह लेख (Top Browser इन हिंदी |) जरुर पसंद आया होगा .मेरी हमेशा से ही यही कोसिस रही हे की में अपने आर्टिकल में वह सारी जानकारी include करू जो  रीडर्स को चाहिए जिससे के उस आर्टिकल के सन्दर्भ में रीडर्स को  किसी दूसरी site या internet में उस आर्टिकल के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही न रहे | इससे रीडर्स के टाइम की बचत होगी और एक ही जगह पे उन्हें सभी इनफार्मेशन भी मिल जाये |यदि आपके मनमे इस आर्टिकल को लेकर कोई भी doubt हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार  होना चाहिए तो आप निचे Comments कर शकते हैं | यदि आपको यह पोस्ट पसंद आया या कुछ सिखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे के facebook,Twitter , Instagram और pinterest पर शेयर जरुर करे |

 

SHARE ON 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *