80C deduction | Section 80C के बारेमे जाने हिंदी में |

परिचय :- 

इस लेखमे हमने Section 80C के Under में कोन- कोनसी चीजो के लिए कितनी Deduction मिलती हैं उसके बारेमे बताया हे | आप इस लेख को पढके knowledge ले शकते हैं |

deduction under section 80c

 

Assesse की Total Gross Income मेंसे Section 80C के Under में निचे बताई गई Amount के सन्दर्भ में ज्यादा से ज्यादा Rs.150000 तक Deduction मिल शकता हैं |

(1) Assesse के द्वारा अपनी जिन्दगी, पति या पत्नी या बच्चो की जिन्दगी की बिमा Policy या फिर HUF के किसी Member की जिवन बिमा पोलीसी तारीख 01-04-2012 से पहले ली हो तो पोलिसी का 20% जितना प्रीमियम Deduction में ध्यान में लिया जाता हैं |

 

 

इस प्रीमियम में Goverment Employe के द्वारा Central Government Employes Insurance Scheme के Under में Pay की गई Amount And Children Differed Endovement Assurance Policy के Under में Pay किये गए Payment को भी Include किया जाता हैं | (But ऐसे Deduction में Premium की Amount Policy की 20% तक ध्यान में ली जाती हैं )

TCS के बारेमे जानने के लिए यहाँ क्लिक करे |

नई जिवन बिमा पोलिसी (तारीख 01-04-2012 या फिर उसके बाद ली हो) के संदर्भ में Pay किये गए Premium पोलिसी की Amount का सिर्फ 10% तक ही Deduction मान्य गिना जाता हैं |

 

Note :- याद रखे के तारीख 01-04-2012 से पहले ली हुई बिमा पोलिसी का प्रीमियम Policy की Amount का 20% तक Deduction मीलने का Continue रहता हैं |

 

Exception :- तारीख 01-04-2013 से Apllicable किये गए Changes के मुताबिक किसी प्रकार की Disablity या फिर पूरी तरह Disablity वाली व्यक्ति (जिसके बारेमे Section 80U में बताया गया हो) OR Section 80DDB के Under में Fix किये गए Rule के मुताबिक किसी बीमारी से ग्रस्त हो उसके जिन्दगी के बिमा प्रीमियम की राशी के सन्दर्भ में Total Policy Value के 15% तक Yearly Premium भी Deduction मान्य गिना जाता हैं |  

(2) कोई भी Person अपनी जिन्दगी , पति या पत्नी की जिन्दगी या फिर बच्चो की जिन्दगी के लिए Non-Computable Differed Annuity के सन्दर्भ पे Pay की गई राशी |

Goods and service tax के बारेमे जानने के लिए यहाँ क्लिक करे |

 

(3) Person अपनी जिन्दगी , पति या पत्नी की जिन्दगी या फिर बच्चो की जिन्दगी के लिए Differed Annuity के सन्दर्भ में Goverment के द्वारा या फिर Goverment की ओर से Salary पे करने वाले मालिक के द्वारा Pay की गई राशी (ऐसी राशी Salary के 20% से ज्यादा नहीं होनी चाहिए)

 

(4) Goverment Approved Providend Fund में दिया गया योगदान | (Loan के Return payment के अलावा)

(5) 15 वर्षीय Public Providend Fund में Rs.150000 तक का योगदान (Loan के Return payment के अलावा) And Approved Providend Fund में दिया गया योगदान (Loan के Return payment के अलावा) |

 

(6) Approved Super Annuation Fund में योगदान |

Tds का payment online कैसे किया जाता है इसके बारेमे जानने के लिए यहाँ क्लिक करे |

(7) Central Government के द्वारा Publicaly Declare की गई Securities में Investment : Post office savings certificate And सुकन्या समृद्धि अकाउंट में राखी हुई Deposite, पिछले साल के दोरान खरीदे हुए आठमी और नवमी श्रेणी के National Saving Certificate पे पिछले साल के दोरान interest की आय (ब्याज की income) का  दोबारा investment भी Deduction पात्र गिना जाता हैं | 

(8) Assesse के द्वारा अपने नामसे ,पति या फिर पत्नी के नामसे या फिर बच्चो के नामसे यूनिट ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया की यूनिट संकलित बिमा योजना (ULIP) के यूनिट में दिया गया योगदान |

 

(9) LIC of INDIA की ULIP योजना में दिया गया योगदान |

 

(10) LIC की जीवनधारा Annuity योजना And ICICI Prudential Life Insurance Co. के Tata AIG Easy Retire Annuity प्लान में दिया गया योगदान |

 

(11) Government के द्वारा Declare किये गए किसी भी Mutual Fund या U.T.I के Unit में दिए गया योगदान गिना जाता हैं |

 

(12) Goverment के द्वारा Diduction हेतु से Declare किये गए किसी भी Mutual Fund या UTI या फिर National Housing Bank की Approved पेंशन फण्ड स्कीम में दिया गया योगदान |

GST का payment online kaise किया जाता हैं ? इसके बारेमे जानने जे लिए यहाँ क्लिक करे |

 

(13) नेशनल हाउसिंग बैंक की Home Loan Account Scheme में Alloted राशी भी Deduction पात्र हैं |

 

(14) जिस Public Company के Public Issue (जाहेर भरना) को Board के द्वारा मान्यता दी गई हो उस Company के Share या Debanture में Investment | ऐसी company निचे बताई गई Facility जैसे के Energy Production, Road Development, Communication Sevices के लिए Share या Debanture Declare करती हे उसी company को इस प्रकार की मान्यता मिलती हैं | 

(15) Assesse की और से Pay की गई  Education Fees जिसमे भारत की किसी भी स्कूल, कॉलेज,यूनिवर्सिटी या फिर दुशरी किसी भी प्रकार की Education संस्था में पुरे समय के Education के लिए Pay किये गए Tution Fees को Include किया जाता हैं | But Development Fees और Donation को Include नहीं किया जाता |

 

(16) रहने के लिए ख़रीदा हुआ या फिर नए बनाये हुए घर की Cost के सन्दर्भ में ली हुई लोन के लिए पिछले साल के दोरान की गई राशी का भुक्तान Deduction पात्र मन जाता हैं |

 

इस प्रकार से किये गए राशी का भुक्तान Housing Board, Co.Op.Housing Society, Central Government या फिर State Government, Bank , जिवन बिमा निगम , University या फिर घर बनाने  या खरीदने हेतु मान्य Company या Corporation को किया गया होनी चाहिए |

(17) जो Public Sector Company भारत में रहने के लिए घरकी खरीदी या घर बनाने हेतु लम्बे समय के लिए Loan देती हो या फिर शहर And नगर के विकास के हेतु भारत में स्थापित मान्य Housing Board की किसी भी योजना में दिया गया योगदान |

 

(18) Sheduled Bank में रखी हुई Term Deposite की राशी भी Deduction मान्य गिनी जाती हैं | But इस प्रकार की Deposit Central Government के द्वारा Approve किये गए And Deposite का समय पांच साल से कम नहीं होनी चाहिए |

Mail merge के बारेमे जानने के लिए यहाँ क्लिक करे |

 

(19) NABARD के Rural Development Deposite में किया गया Investment.

(20) 2004 की Senior Citizens Savings Scheme के Regarding रखी हुई Deposit |

 

(21) Post Office में 5 साल की Term Deposit में किया गया Investment |

 

(22) Cenral Government Employe के द्वारा अपने National Pension Scheme Account में 3 साल या उससे ज्यादा समय के लिए रखी हुई Fix Deposit |

 

Note :- Deduction मान्य कुल राशी RS.150000 से ज्यादा हो तो Section 80C के Under में सिर्फ RS.150000 की राशी Total Gross Income मे से Deduction के रूप में बाद मिलेगी |

Conclusion :-
मुझे उम्मीद हैं की आपको मेरा यह लेख (80c deduction | deduction under section 80c) जरुर पसंद आया होगा | हमारी  हमेशा से ही यही कोसिस रही हे की हम अपने आर्टिकल में वह सारी जानकारी include करू जो  रीडर्स को चाहिए जिससे के उस आर्टिकल के सन्दर्भ में रीडर्स को  किसी दूसरी site या internet में उस आर्टिकल के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही न रहे | इससे रीडर्स के टाइम की बचत होगी और एक ही जगह पे उन्हें सभी इनफार्मेशन भी मिल जाये | यदि आपके मनमे इस आर्टिकल को लेकर कोई भी doubt हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार  होना चाहिए तो आप निचे Comments कर शकते हैं | यदि आपको यह पोस्ट पसंद आया या कुछ सिखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे के facebook,Twitter , Instagram और  pinterest पर शेयर जरुर करे |

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *